शनिवार, 18 अप्रैल 2009

नवगीत: तन गाड़ी को चला रहा मन

नव गीत

तन गाड़ी को

चला रहा मन

सौ-सौ कोडे मार;

स्वार्थ सेठ की

करना होगी

तुझे विवश बेगार...

आस-प्यास हैं

दो कारिंदे

निर्दय-निठुर

फेंकते फंदे

जाने-अनजाने

फंस जाते हम

हिम्मत को हार...

चाहा जागें

पर हम सोये

भूल-भुलैयां में

फंस खोये

मृगतृष्णा में

लालच ने

भटकाया

कर लाचार॥

नेह नर्मदा

नहा न पाये

कलुष-कुटिलता

बहा न पाये

काला-पीला

करो सिखाता

दुनिया का बाज़ार...

*****

4 टिप्‍पणियां:

  1. neh narmada......................

    wah salil ji umda rachna ke liye badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Waah !!! Kya kahun...mugdh ho gayi,nihshabd ho gayi...

    Atisundar rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुक्रिया आपका
    हौसला नव दिया.
    घाट पर गीत के-
    आचमन तो किया.

    उत्तर देंहटाएं