शनिवार, 4 अप्रैल 2009

गीत: कोशिश का खुला रहे द्वार.... -आचार्य संजीव 'सलिल'

गीत

आचार्य संजीव 'सलिल'

संकट में,
हिम्मत मत हार.
कोशिश का
खुला रहे द्वार....

शूल बीन
फूल नित बिखेर.
हो न दीन,
कर नहीं अबेर.
तम को कर
सूरज बन पार....

माटी की
महक नहीं भूल.
सर न चढ़े
पैर दबी धुल.
मारों पर न
करना तू वार...

कल को दे
कल से अब जोड़.
नातों को
पल में मत तोड़.
कलकल कर
बहे 'सलिल'-धार...

****************

4 टिप्‍पणियां:

  1. वाह !! अतिसुन्दर उत्साहवर्द्धक रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  2. नमस्ते आचार्य जी,
    नवगीत की पाठशाला से भी जुड़ें तो आपकी टिप्पणियों से नवगीतकारों के विकास का महत्वपूर्ण काम हो सकेगा। http://navgeetkipathshala.blogspot.com पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं