शुक्रवार, 27 मार्च 2009

गीत: दर्द तुम्हारा करुण कथा है.... -आचार्य संजीव 'सलिल'

गीत

दर्द तुम्हारा करुण कथा है,
पीर हमारी छद्म व्यथा है?
किस मानक को मान रहे हो?-
बैर अकलसे ठान रहे हो?...

सिर्फ़ तुम्हारी चोट चोट है?,
चोट हमारी तुम्हें खोट है।
हम ज्यों की त्यों चादर रखते-
तुम्हें सुहाए नगद नोट है।
जितना पाया- उतने खाली
गाथा व्यर्थ बखान रहे हो...

पाँच साल में शक्ल दिखायी।
लेकिन तुमको शर्म न आयी।
घर भर कर भी कर फैलाये-
जनगण मन को धता बतायी।
चोर, लुटेरे, डाकू, तस्कर-
बन सांसद अपमान रहे हो...

बोलो क्यों दे तुमको हम मत?
सत्य कह सको, है क्या हिम्मत?
राजमार्ग-महलों को तजकर-
चौपालों पर कर नित गम्मत।
यही तुम्हारी जड़ है जिसको-
'सलिल' नहीं पहचान रहे हो...

********************

4 टिप्‍पणियां:

  1. एक व्यथा है गीत, गीत में छायी करुण कथा है।
    उनको कैसा मत, जिनके उर छायी छद्म व्यथा है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक व्यथा है गीत, गीत में छायी करुण कथा है।
    उनको कैसा मत, जिनके उर छायी छद्म व्यथा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाँच साल में शक्ल दिखायी।
    लेकिन तुमको शर्म न आयी।
    घर भर कर भी कर फैलाये-
    जनगण मन को धता बतायी।
    चोर, लुटेरे, डाकू, तस्कर-
    बन सांसद अपमान रहे हो...सही वर्णन है ....बहुत sunder

    उत्तर देंहटाएं