सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

नव गीत: हर जगह दीवाली है...

नव गीत
कुटिया हो या महल
हर जगह दीवाली है...

*

तप्त भास्कर,
त्रस्त धरा,
थे पस्त जीव सब.
राहत पाई,
मेघदूत
पावस लाये जब.
ताल-तालियाँ-
नदियाँ बहरीन,
उमंगें जागीं.
फसलें उगीं,
आसें उमगीं,
श्वासें भागीं.
करें प्रकाशित,
सकल जगत को
खुशहाली है.
कुटिया हो या महल
हर जगह दीवाली है....

*

रमें राम में,
किन्तु शारदा को
मत भूलें.
पैर जमाकर
'सलिल' धरा पर
नभ को छू लें.
किया अमंगल यहाँ-
वहाँ मंगल
हो कैसे?
मिटा विषमता
समता लायें
जैसे-तैसे.
मिटा अमावस,
लायें पूनम
खुशहाली है.
कुटिया हो या महल
हर जगह दीवाली है.

************

1 टिप्पणी:

  1. shanno ने कहा…

    बहुत सुंदर दीवाली की रचना.

    Saturday, October 17, 2009 2:43:00 AM


    श्याम सखा 'श्याम' ने कहा…

    abhinav rachna par badhaaee
    deep parv ki subhkaamnayen
    shyam skha shyam

    Saturday, October 17, 2009 8:18:00 AM


    मनोज कुमार ने कहा…

    बहुत अच्छा और सार्थक नवगीत. मानों शब्दों से खेल रहे हों आप और एक-एक शब्द चुनकर पिरोये गए हैं इस नवगीत की माला में.

    Saturday, October 17, 2009 8:24:00 AM

    उत्तर देंहटाएं