बुधवार, 26 अगस्त 2009

नव गीत: जिनको कीमत नहीं समय की -आचार्य संजीव 'सलिल'

नव गीत:

आचार्य संजीव 'सलिल'

जिनको कीमत नहीं
समय की
वे न सफलता
कभी वरेंगे...

*

समय न थमता,
समय न झुकता.
समय न अड़ता,
समय न रुकता.
जो न समय की
कीमत जाने,
समय नहीं
उसको पहचाने.
समय दिखाए
आँख तनिक तो-
ताज- तख्त भी
नहीं बचेंगे.....

*

समय सत्य है,
समय नित्य है.
समय तथ्य है,
समय कृत्य है.
साथ समय के
दिनकर उगता.
साथ समय के
शशि भी ढलता.
हो विपरीत समय
जब उनका-
राहु-केतु बन
ग्रहण डसेंगे.....

*

समय गिराता,
समय उठाता.
समय चिढाता,
समय मनाता.
दुर्योधन-धृतराष्ट्र
समय है.
जसुदा राधा कृष्ण
समय है.
शूल-फूल भी,
गगन-धूल भी
'सलिल' समय को
नमन करेंगे...

***********

8 टिप्‍पणियां:

  1. समय बहुत बलवान । सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिथिला सँग मिथलेश ने, झेला समय-प्रभाव.
    सुख-दुःख सम होकर सहा, रखकर संत-स्वभाव..

    उत्तर देंहटाएं
  3. समय की ताकत को पहचानना ही होगा..सुन्दर संदेश देता नव गीत..बधाई एवं आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिनको कीमत नहीं समय की

    वे न सफलता कभी वरेंगे। बहुत सुंदर गीत बन पडा है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. उड़न तश्तरी समय का जाने सच्चा मोल.
    हर उड़ान होती 'सलिल', सफल चले पग तोल..
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  6. समय न सीमित, समय अमित है.

    समय-साथ जो चले, अजित है.

    समय पृष्ठ पर कर हस्ताक्षर-

    श्रम-सीकर से, 'सलिल' अमित है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कल्याणकारी सुन्दर सन्देश देती अद्वितीय अतिसुन्दर रचना....वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं

छोटी सी ये दुनिया...

पाठक पंचायत:

photobucket.com

[link=http://www.myscraps.co.in] [/link]

[b]More scraps? http://www.myscraps.co.in[/b]