सोमवार, 15 जनवरी 2018

दोहा दुनिया

शिव को पा सकते नहीं,
शिव से सकें न भाग।
शिव अंतर्मन में बसे,
मिलें अगर अनुराग।।
*
शिव को भज निष्काम हो,
शिव बिन चले न काम।
शिव-अनुकंपा नाम दे,
शिव हैं आप अनाम।।
*‍
वृषभ-देव शिव दिगंबर,
ढंकते सबकी लाज।
निर्बल के बल शिव बनें,
पूर्ण करें हर काज।।
*
शिव से छल करना नहीं,
बल भी रखना दूर।
भक्ति करो मन-प्राण से,
बजा श्वास संतूर।।
*
शिव त्रिनेत्र से देखते,
तीन लोक के भेद।
असत मिटा, सत बचाते,
करते कभी न भेद।।
***
१५.१.२०१८
एफ १०८ सरिता विहार, दिल्ली

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें