बुधवार, 19 मई 2010

नवगीत: मुँह में नहीं जुबान...... --संजीव 'सलिल'

नव गीत:

संजीव वर्मा 'सलिल'



 249862456_aeca583193.jpg
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
silence_screensaver-58112-1.jpeg
शांति-शिष्टता,
धैर्य-भद्रता,
जीवट की पहचान.
शांत सतह के
नीचे हलचल,
मचल रहे अरमान.

श्वेत-शयन लख
यह मत समझो
रंगों से अनजान.
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
work.916874.5.flat,550x550,075,f.winters-silence.jpg
ऊपर-नीचे
सब जानें पर
ऊँच-नीच से दूर.
दिक्-दिगंत पर
नजर जमाये
आशान्वित भरपूर.

मुस्कानों से
'सलिल' न होगा
पीड़ा का अनुमान.
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
work.675726.6.flat,550x550,075,f.the-sound-of-silence.jpg
उत्तर का
प्रत्युत्तर देना 
बहुत सहज आसान.
कह न अनर्गल
मौन साधना
क्या जानें नादान?

जी सचमुच
है बड़ा, 'सलिल' वह
नहीं दिखता शान.
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
Acharya Sanjiv Salil

http://divyanarmada.blogspot.com

6 टिप्‍पणियां:

  1. दिल को छू जाने वाली, एक बेहतरीन रचना. बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सलिल जी, कभी हमारे ब्लॉग पर भी पधारें.
    http://premras.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. खतरनाक है जी.....

    क्या प्यार से समझाया है...

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  4. अद्वितीय रचना...सदैव की भांति....

    बहुत आनंद आया पढ़कर...आभार..

    उत्तर देंहटाएं

छोटी सी ये दुनिया...

पाठक पंचायत:

photobucket.com

[link=http://www.myscraps.co.in] [/link]

[b]More scraps? http://www.myscraps.co.in[/b]