बुधवार, 19 मई 2010

नवगीत: मुँह में नहीं जुबान...... --संजीव 'सलिल'

नव गीत:

संजीव वर्मा 'सलिल'



 249862456_aeca583193.jpg
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
silence_screensaver-58112-1.jpeg
शांति-शिष्टता,
धैर्य-भद्रता,
जीवट की पहचान.
शांत सतह के
नीचे हलचल,
मचल रहे अरमान.

श्वेत-शयन लख
यह मत समझो
रंगों से अनजान.
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
work.916874.5.flat,550x550,075,f.winters-silence.jpg
ऊपर-नीचे
सब जानें पर
ऊँच-नीच से दूर.
दिक्-दिगंत पर
नजर जमाये
आशान्वित भरपूर.

मुस्कानों से
'सलिल' न होगा
पीड़ा का अनुमान.
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
work.675726.6.flat,550x550,075,f.the-sound-of-silence.jpg
उत्तर का
प्रत्युत्तर देना 
बहुत सहज आसान.
कह न अनर्गल
मौन साधना
क्या जानें नादान?

जी सचमुच
है बड़ा, 'सलिल' वह
नहीं दिखता शान.
मौन देखकर
यह मत समझो
मुँह में नहीं जुबान...
*
Acharya Sanjiv Salil

http://divyanarmada.blogspot.com

6 टिप्‍पणियां:

  1. दिल को छू जाने वाली, एक बेहतरीन रचना. बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सलिल जी, कभी हमारे ब्लॉग पर भी पधारें.
    http://premras.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. खतरनाक है जी.....

    क्या प्यार से समझाया है...

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  4. अद्वितीय रचना...सदैव की भांति....

    बहुत आनंद आया पढ़कर...आभार..

    उत्तर देंहटाएं