सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

शब्दों की दीपावली आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'

Acharya Sanjiv Salil

http://divyanarmada.blogspot.com

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'

शब्दों की दीपावली

जलकर भी तम हर रहे, चुप रह मृतिका-दीप.

मोती पले गर्भ में, बिना कुछ कहे सीप.

सीप-दीप से हम मनुज तनिक न लेते सीख.

इसीलिए तो स्वार्थ में लीन पड़ रहे दीख.

दीप पर्व पर हों संकल्पित रह हिल-मिलकर.

दें उजियारा आत्म-दीप बन निश-दिन जलकर.

- छंद अमृतध्वनि

****************

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

छोटी सी ये दुनिया...

पाठक पंचायत:

photobucket.com

[link=http://www.myscraps.co.in] [/link]

[b]More scraps? http://www.myscraps.co.in[/b]